क्रिप्टोकरेंसी क्या है? क्रिप्टोकरेंसी कैसे काम करती हैं? क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान

क्रिप्टोकरेंसी क्या है : क्रिप्टोकरेंसी कैसे काम करती हैं : क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान

जिस रफ्तार से तकनीकी बढ़ रही है, उसी रफ्तार से भौतिक वस्तुओं का डिजिटलीकरण किया जा रहा है. ऑफिशियल वर्क, पेपर-लेस वर्क, शेयर मार्केट और तो और मुद्रा-करेंसी का भी डिजिटलीकरण हो चुका है।
हालांकि क्रिप्टोकरंसी को सबसे पहले 2009 में बनाया गया था, लेकिन भारत ने मार्च 2020 में वैद्य करार दिया गया। इस आर्टिकल पोस्ट में हम क्रिप्टो करेंसी के बारे में सब कुछ जानेंगे. तो चलिए शुरुआत से शुरू करते हैं।
hey do you want to know what is cryptocurrency? and how it works? in this post we know everything about cryptocurrency. everything in hindi.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

क्रिप्टोकरंसी एक प्रकार की डिजिटल करेंसी हैं. जिसका भौतिक में कोई अस्तित्व नहीं होता है। क्रिप्टोकरंसी को क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित किया जाता हैं। क्रिप्टोग्राफी तकनीकी, क्रिप्टोकरंसी का नकली उपयोग या दोहरे खर्च को खत्म करने के लिए मददगार होती हैं. क्रिप्टोकरंसी एक (नही दिखाई देने वाली) मुद्रा है जो केवल ऑनलाइन या इंटरनेट सर्वर में ही चलती-दौड़ती हैं। और महत्वपूर्ण यह कि क्रिप्टोकरंसी को कोई भी अथॉरिटी (जैसे कि RBI) या केंद्रीय केंद्रीय संस्थान जारी नहीं करती हैं.
क्रिप्टोकरंसी को और अधिक गहराई से समझने के लिए कुछ महत्वपूर्ण शब्दों और सवालों को समझना होगा।

क्रिप्टो क्या है?

क्रिप्टो का सीधा मतलब होता है – छुपा हुआ. क्रिप्टोकरंसी यानी छुपी हुई मुद्रा. क्रिप्टो मार्केट यानी छुपा हुआ मार्केट। यहां पर छुपा होने का मतलब यह है कि इनके पीछे का कोई बैकअप नहीं है। इनको रेगुलेट करने वाला कोई नहीं है।

क्रिप्टोग्राफी क्या है?

क्रिप्टोग्राफी एक ऐसी तकनीक होती है, जो सामान्य टेक्स्ट को डिजिटल फॉर्मेट में बदल देती है। क्रिप्टोग्राफी न केवल चोरी या परिवर्तन से डाटा को सुरक्षित करती हैं बल्कि उपयोगकर्ता को प्रमाण भी देती हैं। क्रिप्टोग्राफी गणित के सिद्धांतों और कंप्यूटर एल्गोरिथम पर आधारित होती हैं. जिसको किसी अन्य के द्वारा समझा या बदला नहीं जा सकता।

ब्लॉकचेन क्या है?

ब्लॉकचेन DLT (डिस्ट्रीब्यूटर लेजर टेक्नोलॉजी) आधारित सूचना रिकॉर्ड करने की प्रणाली हैं, जो सिस्टम को बदलने, हैक करने या धोखा देने जैसी स्थितियों से बचाने का कार्य करती हैं। ब्लॉकचेन लेन-देन का डिजिटल लेजर है, जिसे कंप्यूटर सिस्टम के पूरे नेटवर्क पर वितरित किया जाता है। ब्लॉकचेन के प्रत्येक ब्लॉक में कई लेन-देन होते हैं। हर बार जब ब्लॉकचेन पर नया लेन-देन होता है तो उसे प्रतिभागी के खाते में जोड़ दिया जाता है। इस लेनदेन को जोड़ते वक्त एक अपरिवर्तनीय क्रिप्टोग्राफिक हस्ताक्षर के साथ दर्ज किया जाता है, जिसको हैश कहा जाता है।

cryptocurrency kya hai in hindi
cryptocurrency kya hai in hindi

क्रिप्टोकरंसी कैसे काम करती हैं?

क्रिप्टो करेंसी का काम भी दूसरी मुद्राओं की तरह ही लेन-देन का ही होता है। बस फर्क यह है कि क्रिप्टोकरंसी अदृश्य होती हैं। क्रिप्टोकरंसी क्रेडिट, डेबिट और केंद्रीय या राज्य सरकार के बगैर उपयोगकर्ता और कंप्यूटर एल्गोरिथम्स द्वारा नियंत्रित किया जाती है। क्रिप्टोकरंसी के लेन-देन में क्रिप्टो करेंसी वॉलेट नाम के सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जाता है। लेन-देन करने वाला व्यक्ति एक सार्वजनिक पत्ते से दूसरे स्थान पर वॉलेट के जरिए राशि को स्थानांतरित कर सकता है। सभी लेन-देन का डिजिटल रिकॉर्ड रखा जाता है। जिस स्थान पर रिकॉर्ड रखा जाता है उस स्थान को कहते हैं – ब्लॉक। एक ब्लॉक में बहुत सारे लेन देन को दर्ज किया जा सकता है। जब बहुत सारे ब्लॉक शामिल हो जाते हैं तो एक चैन बनती है – उसे कहते हैं ब्लॉकचेन। इस ब्लॉकचेन में कोई फेरबदल नहीं कर सकता क्योंकि प्रत्येक ब्लॉक दूसरे ब्लॉक से लिंक होता है। यदि एक में बदलाव करना हो तो यह असंभव है। एक ब्लॉक में बदलाव करने के लिए पूरी चैन में बदलाव की जरूरत होती हैं। प्रत्येक ब्लॉक का एक अलग सिद्धांत होता है। जिससे उसको कोई हैक नहीं कर सकता।

क्रिप्टो करेंसी के फायदे

लेनदेन – क्रेडिट, डेबिट ,PAYPAL के अलावा एक अन्य विकल्प जिसके जरिए बिना किसी जटिलता से आसानी से अंतरराष्ट्रीय लेन-देन भी की जा सकती हैं। कोई कागजी कार्रवाई नहीं, दलाली फीस नहीं, कोई कमीशन नहीं।
अधिक गोपनीय लेनदेन – क्रिप्टोकरंसी से लेनदेन खाता हैक या पहचान की चोरी के खतरे से बचाता है। हालांकि लेन-देन में दोनों पक्षों के बीच बातचीत और सहमति हो सकती हैं।
लेनदेन शुल्क – क्रिप्टोकरंसी में डेबिट-क्रेडिट कार्ड की तरह कोई मासिक या वार्षिक शुल्क नहीं लगता हैं।

अंतरराष्ट्रीय ट्रांजैक्शन – बहुत सारे अंतरराष्ट्रीय देशों में ट्रांजैक्शन करना कठिन होता है और साथ में बहुत सारी शर्तें होती हैं. लेकिन क्रिप्टोकरंसी किसी भी अंतरराष्ट्रीय लेनदेन को स्वीकृति देती हैं।

ट्रेडिंग – शेयर-फॉरेक्स बाजार की तरह इसमें भी एक्सचेंज होते हैं। उत्साह की बात यह है कि यहां पर बहुत अधिक उछाल आते हैं।

क्रिप्टोकरेंसी के नुकसान

क्रिप्टो करेंसी का कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है तो जो लो डिजिटल उपकरणों का इस्तेमाल करना नहीं जानते उनके लिए कोई काम की नहीं है।
क्रिप्टो करेंसी को नियंत्रित करने की कोई सरकारी संस्था नहीं है.
क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करना काफी खतरनाक हो सकता है. क्योंकि यहां जितनी तेजी से उछाल आते हैं, उतनी ही तेजी से गिरते भी हैं।
अधिक गोपनीय होने के कारण इससे अवैध कार्यों को अंजाम दिया जा सकता है।
यदि एक बार गलत ट्रांजैक्शन हो जाए तो फिर वापसी का कोई विकल्प नहीं होता है।

क्रिप्टो करेंसी के फायदे और नुकसान की बात करें तो इसके नुकसान की तुलना में फायदे काफी अधिक हैं। इसलिए क्रिप्टोकरंसी में निवेश करना और खरीदना ठीक रहता है। यदि वहां की सरकार उसको वैद्य करार देती हैं तो।

भारत में क्रिप्टो करेंसी

मार्च 2020 में क्रिप्टो बिजनेस और ट्रेड को मंजूरी मिली थी। लेकिन जून 2020 में वापस एक बार फिर से मामला क्रिप्टो पर बैन लगाने की और हैं। जब कोई जटिल कानून बनाने की बात आती है तो भारत आमतौर पर एक मिसाल की खोज करता है। मुझे नहीं पता कि आप इस पोस्ट को कब पढ रहे हो, लेकिन क्रिप्टो करेंसी पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक विशाल योजना तैयार करना एक मुश्किल काम है। भारत के सामने भी यह चुनौती है कि कैसे वह कानूनों और नियमों के जरिए क्रिप्टो करेंसी को अवैध करार दे।

क्रिप्टोकरेंसी कैसे खरीदें

क्रिप्टोकरंसी को खरीदने और बेचने का प्रक्रम बेहद साधारण है। यहां पर कुछ महत्वपूर्ण फैक्टर है जो आपको क्रिप्टोकरंसी को खरीदने के लिए फॉलो करने चाहिए।
लोकेशन – क्रिप्टो करेंसी की लेनदेन इतनी गोपनीय है कि यदि किसी देश में यह वैध नहीं है, वहां पर भी इसको खरीदा -बेचा जा सकता है. लेकिन फिर भी किसी देश में सरकार इसको वैद्य करार नहीं देती है तो उसको नहीं खरीदना चाहिए. क्योंकि फिर वह देश के कानूनों के खिलाफ होता हैं।
पेमेंट मेथड – क्रिप्टोकरंसी को खरीदने-बेचने और कैश में बदलने के लिए कोई ऐसा प्लेटफार्म चाहिए जहां पर यह सारी सुविधा मुहैया हो सके। बहुत सारी वेबसाइट, ऐप्स है जिसको चुना जा सकता है।
फीस – क्रिप्टोकरंसी को खरीदने बेचने के लिए प्रत्येक वेबसाइट का अपना एक निर्धारित शुल्क होता है। उसके आधार पर किसी को भी चुन सकते हो।

क्रिप्टोकरंसी में निवेश कैसे करें?

क्रिप्टो करेंसी का एक्सचेंज और ट्रेडिंग ऑनलाइन वेबसाइट पर होता है। वहां पर अपना खाता बनाकर अपने लोकल करेंसी से क्रिप्टोकरंसी को खरीदा जा सकता है और क्रिप्टो मार्केट में इन्वेस्ट किया जा सकता है।

cryptocurrency kya hai

क्या क्रिप्टोकरंसी भारत में लीगल है?

मार्च 2020 में क्रिप्टोकरंसी को भारत में लीगल करार दिया गया था। लेकिन जून 2020 में वापस एक बार फिर इसके ऊपर मुद्दा उठाया गया है, और एक बदलाव के साथ कानून बनाया जाएगा।

क्या मैं क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकता हूं?

हां! क्रिप्टोकरेंसी को कोई भी खरीद सकता है। क्रिप्टो करेंसी को खरीद-फरोख्त इतनी गोपनीय होती हैं कि यदि किसी देश में यह लीगल नहीं है तो भी खरीदा जा सकता है।

क्या क्रिप्टोकरंसी में घाटा होता है?

क्रिप्टोकरेंसी में भी एक्सचेंज मार्केट की तरफ उछाल और गिरावट आती हैं। फायदा होने के साथ-साथ घटा भी उतना ही हो सकता है।

क्या क्रिप्टोकरंसी से पैसा कमाया जा सकता है?

जी बिल्कुल! क्रिप्टोकरंसी से बहुत अच्छा पैसा कमाया जा सकता है। एक अच्छी रणनीति और क्रिप्टो करेंसी के बारे में पूरी जानकारी के साथ निवेश शुरू करके अच्छा पैसा बनाया जा सकता है।

बिटकॉइन को पैसो में कैसे बदले?

बिटकॉइन को पैसो में बदलने लिए किसी बिटकॉइन एक्सचेंज वेबसाइट या क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज वेबसाइट, एप्लीकेशन की जरूरत होती हैं. वहां पर आसानी से इनको बदला जा सकता है।

क्या क्रिप्टोकरेंसीज सेफ हैं?

हां, क्रिप्टोकरेंसीज सेफ हैं. क्रिप्टोकरंसी ब्लॉकचेन तकनीकी पर आधारित हैं। ब्लॉकचेन में सैकड़ों ब्लॉक होते हैं। प्रत्येक ब्लॉक का अपना एक सिद्धांत होता है किसी एक ब्लॉक में बदलाव करने पर सभी ब्लॉक में बदलाव करने की जरूरत होती हैं जो कि असंभव है।

क्रिप्टोकरेंसीज से व्यापार कर सकते हैं?

हां, क्रिप्टोकरंसी में निवेश करके पैसा कमा सकते हैं और उसी पैसे को किसी दूसरी जगह पर निवेश कर सकते हैं।

क्या क्रिप्टो करेंसी ब्लैक मनी है?

नहीं! क्रिप्टोकरंसी कोई ब्लैक मनी नहीं है. बल्कि दूसरी करेंसी कि तरह यह भी एक करेंसी हैं और दूसरे मार्केट की तरह यहां पर भी ट्रेडिंग की जा सकती हैं।

क्या क्रिप्टोकरंसी में निवेश करना ठीक है?

इसका उत्तर आपके पास ही है। अगर आपको एक्सचेंज और ट्रेडिंग का अच्छा ज्ञान है तो आप क्रिप्टोकरंसी में निवेश कर सकते हैं।

क्या बिटकॉइन एक क्रिप्टोकरंसी हैं?

बिटकॉइन एक प्रकार की क्रिप्टोकरंसी हैं। बिटकॉइन की तरह दूसरी बहुत सारी और क्रिप्टोकरंसी हैं. जैसे लिटकॉइन, BAT, NEO.

क्या क्रिप्टोकरंसी पर टैक्स लगता है?

नहीं क्रिप्टोकरंसी पर सरकार की तरफ से कोई टैक्स नहीं लगता. लेकिन वेबसाइट पर एक्सचेंज में कुछ शुल्क लगता है।

बिटकॉइन क्या है?

बिटकॉइन एक प्रकार की क्रिप्टोकरंसी है जिसको 2008 में पहली बार किसी अनामित व्यक्ति या समूह द्वारा खोजा गया। यह प्रचलन में तब आया जब 2009 में सातोशी नाकोमोटो ने इसकी कार्यान्वयन को ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के रूप में जारी किया था।

उम्मीद हैं कि आपको इस पोस्ट में आपको क्रिप्टोकरेंसी के बारे में कुछ जानने को मिला होगा अगर आप फ्री में बिटकॉइन को EARN करना चाहते हों तो नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करके डेली टास्क को पूरा करके बिटकॉइन EARN कर सकते हों.

get free bitcoin: click  here

“अगर कोई 2009 में कोई एक बिटकॉइन खरीदता तो आज वो 7.5 करोड़ का मालिक होता.”
अगर आपके मन में कोई सवाल या संका हैं तो आप कमेंट बॉक्स में आप अपने मन को हल्का कर सकते हों.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Vyvsay